छत्तीसगढ़ समाचार : किस दिशा में बदलेगा मौसम, बढ़ेगी गर्मी या होगी बारिश, नमी वाली हवाओं का बड़ा असर

0
54
छत्तीसगढ़ समाचार : किस दिशा में बदलेगा मौसम, बढ़ेगी गर्मी या होगी बारिश, नमी वाली हवाओं का बड़ा असर

छत्तीसगढ़ समाचार : किस दिशा में बदलेगा मौसम, बढ़ेगी गर्मी या होगी बारिश, नमी वाली हवाओं का बड़ा असर

छत्तीसगढ़ में इन दिनों मौसम का मिजाज बदलता हुआ नजर आ रहा है। कभी तेज धूप तो कभी अचानक से छा जाने वाले बादल। मौसम विभाग ने 20 मई को भी प्रदेश में बारिश की संभावना जताई है। कुछ स्थानों पर गरज-चमक के साथ हल्की बारिश हो सकती है। विभाग का कहना है कि तापमान में कोई विशेष बदलाव नहीं होगा, हालांकि 19 मई को अधिकतम तापमान सामान्य से करीब 2 डिग्री कम रिकॉर्ड किया गया था। बावजूद इसके, बादलों की वजह से उमस बढ़ गई है, जिससे लोगों को असुविधा हो रही है।

समुद्र से आने वाली नमी वाली हवाओं का असर

समुद्र से आ रही नमी वाली हवाओं के कारण प्रदेश का मौसम लगातार बदल रहा है। मौसम विभाग का अनुमान है कि आने वाले कुछ दिनों में प्रदेश का मौसम लगभग समान बना रहेगा। बारिश के बीच दिन का पारा 2 से 3 डिग्री तक बढ़ सकता है, लेकिन इससे ज्यादा कोई विशेष बदलाव नहीं होगा।

सुकमा जिले में भारी बारिश

19 मई को सुकमा जिले में तेज बारिश हुई, जिसमें तोंगपाल में 50.6 मिमी, छिंदगढ़ में 90.2 मिमी, गादीरास में 32.7 मिमी, सुकमा में 120.3 मिमी और कोंटा में 29.8 मिमी बारिश दर्ज की गई। इस बारिश ने इलाके के लोगों को राहत तो दी, लेकिन उमस ने लोगों को परेशान भी किया।

मानसून की तैयारी

छत्तीसगढ़ में मानसून के आगमन की तैयारी शुरू हो चुकी है। मानसून 8 से 14 जून के बीच प्रदेश में प्रवेश कर सकता है। मौसम विभाग के मुताबिक, छत्तीसगढ़ में मानसून बस्तर से प्रवेश करता है और फिर धीरे-धीरे अन्य जिलों में फैलता है। फिलहाल प्रदेश के कई जिलों में प्री-मानसून की फुहारें पड़ रही हैं, जिससे मौसम सुहाना हो गया है।

तापमान में स्थिरता

18 मई को भी रायपुर और बिलासपुर का दिन का तापमान औसत से 5 डिग्री कम रहा। अन्य जिलों का तापमान भी 33 से 38 डिग्री के बीच रिकॉर्ड किया गया। मौसम विभाग का कहना है कि बस्तर संभाग और आसपास के जिलों में आने वाले कुछ दिनों तक तापमान में कोई खास बदलाव नहीं होगा।

नौतपा के बारे में पूर्वानुमान

इस बार छत्तीसगढ़ में नौतपा के दौरान ज्यादा गर्मी पड़ने के आसार नहीं हैं। समुद्र से आ रही नमी वाली हवाएं, बादल और गरज-चमक के साथ हल्की बारिश यह संकेत दे रहे हैं कि राज्य में लू नहीं पड़ेगी। नौतपा का समय गर्मी के लिए जाना जाता है, लेकिन इस बार मौसम की स्थितियां बदलती हुई दिखाई दे रही हैं।

बिना लू के गुजर जाएगी गर्मी?

मौसम विभाग का कहना है कि इस बार छत्तीसगढ़ में गर्मी लू के बिना ही गुजर सकती है। नौतपा के ठीक एक हफ्ते पहले से प्रदेश के कई हिस्सों में बारिश की स्थिति बनती दिखाई दे रही है। इस दौरान तापमान में वृद्धि के आसार नहीं हैं। अनुमान लगाया जा रहा है कि इस बार प्रदेश में बारिश सामान्य से 6 प्रतिशत अधिक रहेगी। पिछले साल की तुलना में इस बार बारिश के अधिक होने के संकेत हैं। पिछले साल बारिश सामान्य से 6 फीसदी कम रही थी, जिससे कई क्षेत्रों में जल संकट की स्थिति पैदा हो गई थी।

प्री-मानसून की बारिश और मौसम का मिजाज

प्री-मानसून की बारिश ने प्रदेश के कई जिलों में मौसम को खुशनुमा बना दिया है। किसानों को भी इससे राहत मिली है, क्योंकि मिट्टी में नमी बनी रहती है जो फसलों के लिए लाभकारी होती है। बस्तर, रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग और अन्य जिलों में हल्की फुहारें पड़ने से मौसम सुहाना हो गया है।

https://www.instagram.com/aman_chhattisgarh/

भविष्य की संभावनाएं

मौसम विभाग का कहना है कि अगले कुछ दिनों तक प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में बारिश होती रहेगी। इससे तापमान में स्थिरता बनी रहेगी और लोगों को गर्मी से राहत मिलेगी। नमी वाली हवाओं का असर जारी रहेगा, जिससे बादल और उमस बनी रहेगी।

इस प्रकार, छत्तीसगढ़ में मौसम का मिजाज बदलता हुआ नजर आ रहा है। नमी वाली हवाओं और प्री-मानसून की बारिश के कारण तापमान में स्थिरता बनी रहेगी और गर्मी से लोगों को कुछ राहत मिलेगी। मानसून के आगमन से पहले की यह स्थिति प्रदेश के लिए लाभकारी साबित हो सकती है, जिससे जल संकट और गर्मी से राहत मिल सके।

यह भी पढे : छत्तीसगढ़ समाचार : किस दिशा में बदलेगा मौसम, बढ़ेगी गर्मी या होगी बारिश, नमी वाली हवाओं का बड़ा असर
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here