लोकसभा चुनावों के परिणाम 4 जून को:11 लोकसभा की गिनती 33 जिलों में, हर सीट के आरओ डेटा एकत्र कर बताएंगे परिणाम

0
32
Chhattisgarh Exclusive News :

हर राउंड की गिनती का रिकार्ड होगा एनकोर साफ्टवेयर में

छत्तीसगढ़ में हुए लोकसभा चुनावों के परिणाम 4 जून को घोषित किए जाएंगे। मतगणना सुबह आठ बजे शुरू होगी और देर शाम तक चलने की संभावना है। इस दौरान जिन सीटों के वोटों की गिनती एक से अधिक जिलों में होगी उसे लेकर लोगों में काफी उत्सुकता है कि वोटों का फाइनल डेटा कैसे कंपाइल किया जाएगा। नतीजों की घोषणा किस जिले में की जाएगी। भास्कर पहली बार इसकी जानकारी पाठकों तक पहुंचा रहा है।

दरअसल चुनाव आयोग के मुताबिक लोकसभा चुनाव के वोटों की गिनती प्रदेश के 33 जिलों के 90 विधानसभा क्षेत्रों में होगी। इसके बावजूद 11 लोकसभा सीटों के लिए 11 रिटर्निंग अफसर ही नियुक्त किए गए हैं। ये अफसर 11 जिलों से अन्य जिलों में होने वाली वोटों की गिनती पर नजर रखेंगे। इसी तरह 90 विधानसभा के लिए 90 असिस्टेंट रिटर्निंग अफसर तैनात किए गए हैं, जो आरआे के निर्देशन में मतगणना कराएंगे।

अफसरों का दावा है कि मतगणना सिस्टम फुलप्रूफ है। मतदान खत्म होने के बाद पीठासीन अधिकारी प्रत्याशियों के पोलिंग एजेंटों को फार्म 17-सी उपलब्ध कराते हैं। इसमें संबंधित बूथ पर वोटरों की संख्या और मतदान करने वाले वोटरों की संख्या का उल्लेख रहता है। इसकी एक कॉपी स्ट्रांग रूम में रखी जाती है। वोटों की गिनती के वक्त इसे टेबल पर रखा जाता है। यही फार्म 17-सी उम्मीदवारों को भी मतगणना के दौरान दिया जाता है। जिसमें प्रत्याशियों को मिले वोटों का जिक्र रहता है।

हर राउंड का डेटा अपलोड करेंगे एआरओ

किसी लोकसभा सीट के वोटों की गिनती एक से अधिक जिलों में की जा रही है तो इसका लेखा-जोखा चुनाव आयोग के इनेबलिंग कम्युनिकेशंस ऑन रियल-टाइम एनवायरमेंट यानी एनकोर साफ्टवेयर पर रखा जाएगा। हर राउंड में गिने जाने वाले वोटों की संख्या इस साफ्टवेयर पर अपलोड की जाएगी। यह काम एआरओ करेंगे। इसमें केंद्रीय चुनाव आयोग के आर्ब्जवर के भी हस्ताक्षर रहेंगे। हर राउंड के अपलोड वोटों की संख्या आरओ अपने जिले में साफ्टवेयर पर देख सकेंगे। दो या तीन जितने भी जिलों में गिनती की जा रही है उसके पूरा हो जाने के बाद आरओ सभी राउंड व सभी जिलों के वोटों का डेटा कंपाइल करेगा। इसके बाद ही वह संबंधित सीट से जीतने वाले उम्मीदवार की घोषणा करेगा।

तीन तरह के साॅफ्टवेयर

टाइम एनवायरमेंट यानी एनकोर साफ्टवेयर तीन तरह का होता है। एनकोर काउंटिंग एप्लिकेशन आरओ के लिए डाले गए वोटों को डिजिटलाइज करने, राउंडवार डेटा को लिस्टिंग करने और गिनती की वैधानिक रिपोर्ट निकालने के लिए एन्क्रिप्टेड एप्लीकेशन है।

पोस्टल बैलेट पेपर की गिनती पहले होगी

रायपुर, राजनांदगांव, महासमुंद, कांकेर, जगदलपुर, अंबिकपुर, रायगढ़, जांजगीर, कोरबा, बिलासपुर व भिलाई में पोस्टल बैलेट की गिनती पहले होगी। इसके बाद 8.30 बजे से ईवीएम के वोट गिने जाएंगे।

सीट व मतगणना वाले जिले

बस्तर सीट: नारायणपुर, बस्तर(जगदलपुर), दंतेवाड़ा, बीजापुर, सुकमा व कोंडागांव।

कांकेर सीट: कोंडागांव, कांकेर व बालोद। सिहावा विधानसभा की गिनती धमतरी में।

राजनांदगांव सीट: कवर्धा और राजनांदगांव।

महासमुंद सीट: महासमुंद, गरियाबंद, धमतरी।

सरगुजा सीट: सूरजपुर, बलरामपुर तथा अंबिकापुर (सरगुजा)।

रायगढ़ सीट: जशपुर, रायगढ़ तथा सारंगढ़।

जांजगीर-चांपा सीट: सारंगढ़, जांजगीर, सक्ती।

कोरबा सीट: मनेंद्रगढ़, पेंड्रा-गौरेला-मारवाही व कोरबा।

बिलासपुर सीट: बिलासपुर और मुंगेली।

दुर्ग सीट: भिलाई (दुर्ग) व बेमेतरा।

रायपुर सीट: बलौदाबाजार और रायपुर।

एक से अधिक जिलों में गिनती और उसके डेटा का रिकार्ड चुनाव आयोग के एनकोर साफ्टवेयर पर राउंड -दर- राउंड अपलोड किया जाता है। इस बारे में आरआे का निर्णय ही अंतिम होता है। उम्मीदवारों और राजनीतिक दल भी इसे पारदर्शी व निष्पक्ष मानते हैं।- रीना बाबा साहब कंगाले, सीईओ छत्तीसगढ़

रायपुर लोकसभा चुनाव की ताजा खबरें पढ़ने के लिए देखते रहिए amanchhattisgarh इंस्टाग्राम और वेबसाइट । किस लोकसभा सीट पर क्या हैं जनता के मुद्दे और क्या है चुनावी हवा। चुनाव का सबसे सटीक और डीटेल एनालिसिस।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here